Monday, October 27, 2008

प्रकाश पर्व के महत्व को बनाए रखें

दीपावली का पर्व प्रकाश का प्रतीक है। यह पर्व हमें अच्छाई के रास्ते पर चलने के साथ ही राष्ट्रीय एकता बनाये रखने का संदेश देता हैं। प्रकाश का यह पर्व लोगों में भाईचारे की भावना को बढ़ाने वाला है और बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक है। यह पर्व हमारी मिश्रित सभ्यता को सही मायने में प्रदर्शित करता है तथा शीत ऋतु और फसल बुआई की शुरूआत होने का भी संदेश देता है। अज्ञान एवं अशिक्षा के अन्धकार को दूर कर ज्ञान एवं शिक्षा का प्रकाश जन-जन के जीवन में संचित हो इसके लिये हम सबको मिल-जुल कर सेवा भाव से कार्य करने होंगे। मिल-जुल कर भाईचारे एवं मैत्री भाव से इस पर्व को मनाने से साम्प्रदायिक सदभाव सुदृढ़ होता है। सच बात तो यह है कि लंका नरेश रावण का बध करने के बाद जब भगवान राम अयोध्या वापस लौटे थे तब जीत का इजहार करने के लिए नगर में घर-घर दीप जलाए गए थे। राक्षस राज्य के अंत की खुशी में लोगों ने घी के दिए जलाकर राम, सीता और लक्ष्मण का जोरदार स्वागत किया। मुझे भी अपने अंदर की राक्षसी प्रवृत्ति का खात्मा करना होगा, तभी इस त्यौहार का मनाने का औचित्य है।

6 comments:

Udan Tashtari said...

दीपावली के इस शुभ अवसर पर आप और आपके परिवार को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाऐं.

हिन्दुस्तानी एकेडेमी said...

अच्छी पोस्ट...।
=================
दीपावली की शुभकामनाएं।
=================

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

दीपावली पर हार्दिक शुभकामनाएँ!
दीपावली आप और आपके परिवार के लिए सर्वांग समृद्धि लाए!

Vivek Gupta said...

दीपावली पर हार्दिक शुभकामनाएँ!
दीपावली आप और आपके परिवार के लिए सर्वांग समृद्धि लाए!

dr. ashok priyaranjan said...

अच्छा िलखा है आपने ।

दीपावली की हािदॆक शुभकामनाएं । ज्योितपवॆ आपके जीवन में खुिशयों का आलोक िबखेरे, यही मंगलकामना है ।

दीपावली पर मैने अपने ब्लाग पर एक रचना िलखी है । समय हो तो आप पढें़और प्रितिक्रया भी दें ।

http://www.ashokvichar.blogspot.com

HindiBlogs Net said...

आपको दिवाली की हार्दिक शुभकामनायें।
अभी अपना व्यावसायिक हिन्दी ब्लॉग बनायें।